top of page
  • Shubhshree mathur

बादल

मैंने ग़लती से

बादलों पर रख दिए

अपने उसूल और आदर्श


अब वो


इतने हल्के है

कि ज़मीन पर

नहीं आ पाते


इतने ऊंचे कि

मैं उन तक

नहीं पहुंच पाती

2 views0 comments

Recent Posts

See All

コメント


bottom of page